धर्म

Siddhidatri:मां के नौवें स्वरुप की पूजा करने से मिलती है तमाम सिद्धियां

मां दुर्गा के नौवें स्वरूप को सिद्धिदात्री (siddhidatri ) के नाम से जाना जाता है, जिनकी चार भुजाएं हैं। इनका आसन कमल और वाहन सिंह है। दाहिने और नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा, बाई ओर से नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमल पुष्प है। भगवती के इस स्वरूप की ही हम नवरात्र के अंतिम दिन आराधना करते हैं। मां दुर्गा के इस रूप को शतावरी और नारायणी भी कहा जाता है।

मां सिद्धिदात्री अंतिम

ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं. नवदुर्गाओं में मां सिद्धिदात्री अंतिम हैं। नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है. इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति हो जाती है। सृष्टि में कुछ भी उसके लिए मुश्किल नहीं रह जाता है। ब्रह्मांड पर पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामर्थ्य उसमें आ जाती है।

शतावरी और नारायणी

दुर्गा के सभी प्रकारों की सिद्धियों को देने वाली मां की पूजा का आरंभ निम्न श्लोक से करना चाहिए।

देवी सर्वभू‍तेषु माँ सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

Related posts

पुत्र की लंबी उम्र के लिए नहाय खाय के साथ तीन दिवसीय जितिया शुरु,बुधवार के शाम 5 बजे के बाद होगा पारण

Pankaj Jha

इस सावन में शिव आयेंगे भक्तों के द्वार,देवघर में ऑन लाइन पूजा की हो रही है तैयारी

Pankaj Jha

चैत्र नवरात्रि का पहला दिन:मां शैलपुत्री की पूजा से मिलता है मनोवांछित फल

Pankaj Jha

Leave a Comment